July 2, 2022

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

पढ़िए स्वतंत्र विधा में युवा कवयित्री किरन पुरोहित की रचना-हे प्रभु मन में दीप जलाओ

1 min read

हे प्रभु मन में दीप जलाओ

अंधकार से मुझे निकालो ,
सच्चाई की राह दिखा लो ।
सही ड़गर क्या मुझे बताओ ,
हे प्रभु ! मन में दीप जलाओ ।।

जीवन पथ पर मोड़ ही मोड़ ,
परिस्थिति देती हैं तोड़ ।
मन मेरा भटका – सा पथिक ,
समय बीतता बहुत अधिक ।।

अपनी मंजिल कैसे पाऊं? ,
खुद कैसे मैं दीप जलाऊं? ।
सही डगर क्या मुझे बताओ ,
हे प्रभु ! मन में दीप जलाओ ।।1।।

चुभती हैं कितनी यादें? ,
हाय ! सुनूं कितनी बातें ? ,
कितने इस पथ के साथी ?,
कितनी दीपक की बाती ?,

तुम बिन मेरा कौन सहारा? ,
हारे मन ने तुम्हें पुकारा ।
सही डगर क्या मुझे बताओ ,
हे प्रभु ! मन में दीप जलाओ ।।2।।

कवयित्री का परिचय —
नाम – किरन पुरोहित “हिमपुत्री”
पिता -दीपेंद्र पुरोहित
माता -दीपा पुरोहित
जन्म – 21 अप्रैल 2003
अध्ययनरत – हेमवती नंदन बहुगुणा विश्वविद्यालय श्रीनगर मे बीए प्रथम वर्ष की छात्रा।
निवास-कर्णप्रयाग चमोली उत्तराखंड।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page