July 2, 2022

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने ऐसे मनाया जश्न, जैसे उत्तराखंड से भाग गया कोरोना

1 min read

उत्तराखंड में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत को देखकर तो यही लगता है कि अब उत्तराखंड में कोरोना के नियम जरूरी नहीं है। किसी को ना मास्क लगाने की जरूरत है और ना ही शारीरिक दूरी के नियम की जरूरत इस राज्य को है। हो सकता है कि उनकी नजर में कोरोना भाग गया है। यदि भाजपा प्रदेश अध्यक्ष भीड़ में एक दूसरे से सटकर बगैर मास्क के जश्न मना रहे हैं तो फिर सड़क पर पुलिस क्यों मास्क को शारीरिक दूरी का पालन न होने पर आमजन के चालान काट रही है। यदि सब कुछ ठीक है, कोरोना का कोई डर नहीं तो आमजन का उत्पीड़न भी बंद कर दो सरकार। क्योंकि सरकार आापकी है। नियम सबके लिए बराबर हैं। आप तो पहले भी कोरोना संक्रमित हो चुके हो, फिर आपसे ऐसी लापरवाही की उम्मीद नहीं की जा सकती है।
मौका है बिहार विधानसभा चुनाव व अन्य राज्यों के उपचुनावों में एनडीए और भाजपा की शानदार जीत के जश्न का। आज भाजपा संभाग कार्यालय हल्द्वानी में जश्न मनाया गया। इसमें भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत व अन्य पदाधिकारी शामिल हुए। तस्वीरों में देख सकते हैं कि इन नेताओं को शायद अब कोरोना का कोई भय नहीं रहा। फिर आमजन के चालान काटकर उन्हें पुलिसिया भय क्यों दिखा रहे हो। ये सवाल प्रदेश का जागरूक नागरिक पूछ रहा है।
जश्न के मौके पर यदि भाषण न हो तो फिर जश्न का मजा ही क्या। इस मौके पर भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने कहा कि बिहार विधानसभा चुनाव तथा विभिन्न राज्यों के विधानसभा उपचुनाव में एनडीए व भाजपा की शानदार विजय से पुनः सिद्ध हो गया है कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी देश की जनता के सबसे चहेते और विश्वसनीय नेता है।


आज बिहार विधानसभा चुनाव तथा अन्य राज्यों के विधानसभा उपचुनावों के परिणामों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने कहा कि कि बिहार में लगातार चौथी बार एनडीए की विजय व विभिन्न विधानसभा उपचुनावों में भाजपा की शानदार विजय से पुनः सिद्ध हो गया है कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता लगातार बढ़ रही है और वह बिहार सहित पूरे देश की जनता के सबसे प्रिय नेता है । साथ ही जनता का उन पर पूर्ण विश्वास है।
भगत ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने देश की राजनीति में एक गुणात्मक परिवर्तन किया है । इसके परिणाम स्वरूप देश में अब छद्म धर्मनिरपेक्षता, जातिवाद, तुष्टीकरण की राजनीति पिछड़ गई है और आज देश में सबसे प्रमुख राजनीतिक एजेंडा विकास का है। बिहार में मोदीऔर वहां के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जिन्होंने बिहार के लिए बहुत कार्य किया को रोकने के लिए विभिन्न राजनीतिक दलों ने एक बेमेल महागठबंधन बनाया और हर प्रकार की स्तरहीन राजनीतिक हरकतें की। उनके ये प्रयास सफल नहीं हुए और अंततः बिहार में एनडीए गठबंधन की विजय हुई है और नीतीश कुमार चौथी बार मुख्यमंत्री बनने वाले हैं । यह भी जो अपने अपने आप में इतिहास है। साथ ही उपचुनावों में भी भाजपा को शानदार जीत मिली है।
उन्होंने कहा कि बिहार की विजय में केंद्र सरकार और राज्य सरकार की डबल इंजन की शक्ति तथा प्रधानमंत्री मोदी जी का आशीर्वाद व मार्गदर्शन और श्री नीतीश कुमार के कार्य मुख्य कारक बने और विपक्षियों का हर षड्यन्त्र असफल सिद्ध हुआ। भगत ने आरजेडी ,कांग्रेस और विपक्षी दलों द्वारा पराजय को स्वीकार न कर पाने पर आश्चर्य व्यक्त किया और कहा कि जो नेता ईवीएम पर प्रश्न उठा रहे हैं, उन्हें यह तो पता ही होगा कि तथाकथित महागठबंधन द्वारा जो 110 सीटें जीती गई वह भी ईवीएम से हुए चुनाव से ही जीती गईं। इसलिए विपक्षियों को चाहिए कि वे अपनी पराजय को स्वीकार करें और जनता के निर्णय का सम्मान करें। उचित होगा कि वह इस पराजय से सबक लेते हुए सकारात्मक विपक्ष की भूमिका निभायें।
भगत ने कांग्रेस पर कटाक्ष करते हुए कहा कि बिहार चुनाव और अन्य राज्यों में उपचुनाव में कांग्रेस की जो दुर्गति हुई है उससे साफ है कि कांग्रेस डूबता जहाज है, लेकिन कांग्रेस नेता सुधारने के लिए तैयार नहीं है। इसका परिणाम यह होगा कि कांग्रेस अपने ही कर्मों से समाप्त होती जाएगी। उसकी यह स्थिति उत्तराखंड में भी देखी जा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page