July 4, 2022

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

युवा कवयित्री किरन पुरोहित की कविता में पढ़िए, सुप्रभात का नजारा

1 min read

“ब्रह्म मुहूर्त का समय” अर्थात वह समय जिस समय अंधेरे पर उजाले की जीत होती है और सारी सृष्टि में एक जागृति आ जाती है। पंछी स्वत: ही अपनी निद्रा का त्याग कर देते हैं और चारों ओर सुप्रभात का संदेश देते हैं। इस सुप्रभात को जब मैंने चारों ओर देखा तो यह पाया-

मैं देख रही हूं …..

मैं देख रही हूं ,
शांत नील अंबर को ।
कितना कुछ कहता हुआ ,
ये कितना चुप ।।

कैलाश क्षेत्र में ,
बालसूर्य खिल रहा ।
अलकनंदा घाटी में ,
कोलाहल हो रहा ।।

रात का नशा छूटता है ,
देवत्व जागता मंद – मंद।
बहती अलकनंदा लाई निज संग ,
बद्रीवनों से तुलसी की सुगंध ।।

उड़ती नभ छूती चिड़िया हैं ,
चहकती स्वरों के सप्त रागों में ।
फूल हंसे खिलने से लगे ,
भ्रमर गूंजते बागों में ।।

आज ब्रह्ममुहूर्त का पावन नजारा ,
एकांत साधना करते पर्वत करें बात ।
नैन मूंदे तब यहां पर रात थी ,
मैं देख रही हूँ होती प्यारी सुप्रभात ।।

…….किरन पुरोहित हिमपुत्री

लेखिका का परिचय —
नाम – किरन पुरोहित “हिमपुत्री”
पिता – श्री दीपेंद्र पुरोहित
माता – श्रीमती दीपा पुरोहित
जन्म – 21 अप्रैल 2003
आयु – 17 वर्ष
अध्ययनरत – कक्षा 12वीं उत्तीर्ण
निवास, कर्णप्रयाग चमोली उत्तराखंड।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page