July 3, 2022

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

छात्रों की पिटाई से चर्चा में आए मठ के शिक्षक ने फांसी लगाकर दी जान

1 min read

नेपाल के छात्रों से मारपीट मामले में चर्चा में आए देहरादून के पुरकुल स्थित मठ (साक्या एकेडमी) के एक शिक्षक ने फांसी लगाकर जान दे दी। उनका शव एकेडमी परिसर स्थित उनके कमरे में फंदे से लटकता हुआ मिला। आत्महत्या करने वाले शिक्षक लुआंग लेखफा मूल रूप से नेपाल के रहने वाले थे और वह एकेडमी में बौद्ध शास्त्र पढ़ाते थे। वह पिछले तीन साल से एकेडमी में सेवाएं दे रहे थे। मौके से पुलिस को एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है। हालांकि, अभी आत्महत्या का कारण स्पष्ट नहीं है।
सुसाइड नोट में जताया पछतावा
पुलिस को मौके से जो सुसाइड नोट मिला है, बताया जा रहा है कि उसमें शिक्षक ने एकेडमी से कुछ छात्रों के मारपीट में चोटिल होने के फोटो इंटरनेट मीडिया पर वायरल होने का जिक्र है। सुसाइड नोट में लिखा है कि एकेडमी के मुख्य गुरुजी ने फोटो वायरल होने पर नाराजगी जताते हुए समूचे स्टाफ को अपने मोबाइल फोन जमा करने को कहा था, लेकिन लेखफा अपना फोन जमा नहीं कर पाए। पुलिस के मुताबिक सुसाइड नोट में लेखफा ने इस पर पछतावा जताते हुए गुरुजी की बदनामी होने का जिक्र किया है। इससे यह माना जा रहा है किसी न किसी रूप में इस घटना का छात्रों के पिटाई प्रकरण से वास्ता है।
ये लगे थे आरोप
राजपुर पुलिस के मुताबिक एकेडमी के कुछ छात्रों ने सोमवार को आरोप लगाया था कि एक शिक्षक ने उनके साथ मारपीट की है। इसके बाद एकेडमी से सात छात्र भाग गए थे। इनमें से चार छात्र तो नेपाल चले गए, लेकिन तीन छात्र उत्तराखंड-नेपाल सीमा पर बनबसा में उत्तराखंड पुलिस ने पकड़ लिए थे। इन छात्रों को वापस लेने के लिए शिक्षक लुआंग लेखफा भी बनबसा गए थे, जो शुक्रवार रात को ही वापस एकेडमी लौटे थे। बताया गया कि रात को खाना खाने के बाद वह रोजाना की तरह अपने कमरे में सोने चले गए।
रात गए कमरे में सोने, अगली शाम मिला शव
शनिवार सुबह जब क्षक लुआंग लेखफा कमरे से बाहर नहीं आये तो एकेडमी के स्टाफ ने समझा कि देर तक सो रहे होंगे। शाम तक जब लेखफा कमरे से बाहर नहीं निकले तो स्टाफ के एक सदस्य उनका हालचाल पूछने पहुंचे। काफी देर तक जब लेखफा ने दरवाजा नहीं खोला तो स्टाफ ने किसी तरह कमरे की खिड़की खोली। खिड़की से झांका तो लेखफा रस्सी के सहारे पंखे से लटके हुए दिखे। हालांकि, शिक्षक नेपाल के निवासी थे, लिहाजा पुलिस ने नेपाल दूतावास को भी सूचना भेज दी है।
छात्रों की पिटाई का मामला आया था सामने
साक्या एकेडमी में पहले नेपाल के कुछ छात्रों के साथ मारपीट का मामला सामने आया था। बताया गया था कि यहां के 47 बच्चों ने नेपाल जाने के लिए एकसाथ आवेदन किया था। आरोप है कि इस पर एक शिक्षक ने गुस्से में आकर कुछ छात्रों की पिटाई कर दी थी। इनमें से सात बच्चे एकेडमी प्रबंधन को बिना बताए गुपचुप ढंग से भाग गए थे। पिटाई से जख्मी बच्चों के फोटो इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो गए थे। ये फोटो और घटना की सूचना नेपाल तक पहुंच गई थी।

इस पर गुरुवार को प्रशासन, पुलिस और राज्य बाल आयोग समेत नेपाल दूतावास की टीम ने एकेडमी पहुंचकर जांच शुरू की थी। घटना की गंभीरता को देखते हुए डीआइजी अरुण मोहन जोशी ने प्रकरण की जांच एसपी क्राइम लोकजीत सिंह को सौंपी, जो इन दिनों एकेडमी प्रबंधन, फाउंडेशन पदाधिकारियों व छात्रों के बयान दर्ज कर रहे हैं। पुलिस जांच चल ही रही थी कि इस बीच शनिवार रात यह घटना सामने आ गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page