July 4, 2022

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

हिंदी कविता, यह पुष्प समर्पित उन वीरों को, जो अमर शहीद हुए हैं

1 min read

यह पुष्प समर्पित उन वीरों को

यह पुष्प समर्पित उन वीरों को, जो अमर शहीद हुए हैं।
करता है राष्ट्र नमन उन्हीं को, जो वीर इतिहास बने हैं ।
समय-समय पर भारत के वीरों ने ,पराक्रम प्रचंड दिखाया ,
भारत माता की रक्षा करने को, अपना प्राण उत्सर्ग कराया ।
यह पुष्प समर्पित उन वीरों को।

नापाक चीन के हिंसक दांतो को, भारत के वीरों ने तोड़ा ।
दुम दबाकर भागा दुश्मन ,जग ने भारत का लोहा माना ।
क्षुद्र चाल से छली चीन ने, जब भारत को ललकारा ,
वीर सैनिकों ने भारत के ,सदा दुश्मन को धूल चटाया ।
यह पुष्प समर्पित उन वीरों को ।
भूल चुके हो क्या जसवंत को,तीन सौ जिसने मारे थे ।
तीन दिवस तक लड़ा अकेला ,मारे सैनिक सारे थे।
सन बासठ का राइफलमैन अब ,कर्नल रैंक है पाया ।
ऐ मूर्ख चीन ! पराक्रम भारत का ,याद तुझे नहीं आया।
यह पुष्प समर्पित उन वीरों को ।
डोकलाम से तू भाग गया था ,अब गलवान से भी भागेगा ।
तू छदमी कुटिल चालबाज है, निश्चित भारत माता से हारेगा।
यह बासठ का युद्ध नहीं है , अब यह बीस बीस का भारत है ।
समझाने से यदि ना समझा ,फिर तो निश्चित ही महाभारत है ।
यह पुष्प समर्पित उन वीरों को।
अभी समय है चीन संभल जा, फिर जसवंत आ जाएगा ।
एक एक सैनिक भारत का , फिर सौ सौ चीनी को मारेगा ।
बलिदान व्यर्थ नहीं जाता है ,ना व्यर्थ जाती सैनिक कुर्बानी।
महावीरों के प्राण उत्सर्ग से ,सदा मिलती है अमर जवानी ।

यह पुष्प समर्पित उन वीरों को।

कवि का परिचय
सोमवारी लाल सकलानी, निशांत ।
 सुमन कॉलोनी, चंबा; टिहरी गढ़वाल।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page