July 3, 2022

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

किसने बनाया उत्तराखंड किसका हो के रह गया, पढ़िए रचनाकार के उदगार

1 min read

किसने बनाया उत्तराखंड किसका हो के रह गया,
कैसे सपने देखे हमने केसे बन के रह गया
चम्मचों की फौज है नेताओं की मौज है ,
घोटाले रोज है देते नई डोज़ है
बस्ती बस्ती घोर उदासी कहती सारी कासी ,
गाँव भी अब खाली खाली
नहीं अब कही हरियाली ,
पढ़ा लिखा बेरोजगार है
कौन है इसका जिम्मेदार
सारा प्रांत त्रस्त है, जिसको ज़िम्मेदारी दी वो घर भरने मैं व्यस्त है
ऐरा गैरआ नथू खेरा नेता बन के रह गया ,
किसने बनाया उत्तराखंड किसका हो के रह गया
सफ़ेद घोड़ी लाल लगाम उस पर बैठे नथू राम ,
जनता सारी झुक कर करे सलाम
मंत्री जी है उनका नाम, करते सारे उल्टे काम ,
फिर लगाते उस पर बाम
आम जन मानस देख ठगा सा रह गया
किसने बनया उत्तराखंड किसका हो के रह गया
कुर्सी की दौड़ मैं नेता मारे झपटा , जनता खाये रपटा
भावना का ज्वार भाटा आता है मन में
क्या एसे दिन देखने थे अपने जीवन में
खटीमा मसूरी ,तिराहा कांड हम भूल गए ,
गोली जिनके सीने पर लगी
क्या सपने देखे होंगे उन अमर शहीदों ने ,
अस्मत लुटाई माता ओर बहनों ने
आज किसी फर्क नहीं उनके जीने मरने में ,
जो संगीने जेहल चुके थे अपने नंगे सीने में
यह सब देख गांधी सुमन भी ठगा सा रह गया ,

किसने बनया उत्तराखंड किसका हो के रह गया ।

रचनाकार का परिचय
नाम -डॉ. महेंद्र पाल सिंह परमार ( महेन)
शिक्षा- एम0एससी, डीफिल (वनस्पति विज्ञान)
संप्रति-सहायक प्राध्यापक ( राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय उत्तरकाशी)
पता- ग्राम गेंवला (बरसाली), पोस्ट-रतुरी सेरा, जिला –उत्तरकाशी-249193 (उत्तराखंड)
मेल –mahen2004@rediffmail.com
मोबाइल नंबर- 9412076138, 9997976402 ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page