June 30, 2022

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

पढ़िए दीनदयाल बन्दूणी की गढ़वाली गजल- कै छाल चलि गे

1 min read

कै छाल चलि गे
मठु-मठु करि जिंदगी , पलि छाल चलि गे.
ज्यूकि भूक दिनौं-दिन, छलि-छाल चलि गे..

न सोचू – न गांणू , न जीवन पच्छ्यांणू.
कब क्य ह्वे- कनु ह्वे , तलि छाल चलि गे..

ब्वे-बुबान बतै-समझै , अपड़ौं से बड़ैं रखि.
अपड़ौं खोजदैं बतौं , कैं ढंडी ताऴ चलि गे..

मिन नि कै – तिन नि कै , चल बतौ कैन कै.
ईं अमोल़ जिंदगी कू , करि कुहाल चलि गे..

क्य ! इनीं ह्वे जमना बटि , इनीं चलदु रै.
क्वी न्यऴणू रै , क्वी मालौं – माल चलि गे..

बगत फरि कुछनि जाॅड़ीं , करदा खैंचाताॅड़ीं.
बिगर बतयां-चितयां , बतौ कै छाल चलि गे..

‘दीन’ अरे जमना कन बदले , मिंट – मिटौंम.
हम त तकदै रवां , तु करि बुराहाल चलि गे..

@ दीनदयाल बन्दूणी ‘दीन’

कवि का परिचय
नाम .. दीनदयाल बन्दूणी ‘दीन’

गाँव.. माला भैंसोड़ा, पट्टी सावली, जोगीमढ़ी, पौड़ी गढ़वाल।
वर्तमान निवास-शशिगार्डन, मयूर बिहार, दिल्ली।
दिल्ली सरकार की नौकरी से वर्ष 2016 में हुए सेवानिवृत।
साहित्य
सन् 1973 से कविता लेखन। कई कविता संग्रह प्रकाशित।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page