April 17, 2021

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

सरूली सुम्याण की अमर प्रेमकथा पर आधारित गढ़वाली रचना

1 min read

बजदी बांसुरी ——-

बजदी मनम्वोहनि बांसुरी हो ,
बजदी मनम्वोहिनि बांसुरी ।
धकध्याट करदी हाय जिकूड़ी ,
धकध्याट करदी हो ।।

अछैगे घाम रुमुक पडीगे ,
सूणीकि वंसी मन हरीगे ।
माया लगीगे भारी भिजां ही ,
नातू जुणी बिन जाणी पछांणी ।।1।।

बजदी मनम्वोहिनि ———

सूणीकि बंसी बुरांस हेंसिंगे ,
बंसी कि भौण जिकूण्यूं बसीगे ।
चुपचुप देखण लैगीं हिलासी ,
गोप्यूं क जनि रास रसीगे ।।2।।

बजदी मनम्वोहिनि ———–

सों देवतों की वे मा ही जालू,
सों च भुलों की अन भी नि खालू,
भैजी खुजैई की ल्यावा वेथेही ,
ते तेहि अब मी बर बरालू ।

बजदी मनम्वोहनि————–

डांड्यूं का प्वोर कू होला कुजाणी,
जौं मा बसीगे निठूर पराणी ।
आज सरूली ह्वेगे तउंकी ,
जौं की झलक न देखी न जाणी ।।3।।

बजदी मनम्वोहनि————-

————- किरन पुरोहित हिमपुत्री
लेखिका का परिचय —
नाम – किरन पुरोहित “हिमपुत्री”
पिता – श्री दीपेंद्र पुरोहित
माता – श्रीमती दीपा पुरोहित
जन्म – 21 अप्रैल 2003
आयु – 17 वर्ष
अध्ययनरत – कक्षा 12वीं उत्तीर्ण
निवास, कर्णप्रयाग चमोली उत्तराखंड।

3 thoughts on “सरूली सुम्याण की अमर प्रेमकथा पर आधारित गढ़वाली रचना

  1. यीं रंचणा थै मंच द्योण का वास्ता आपको भोत भोत धन्यवाद लोकसाक्ष्य। ।🙏🙏🙏🙏

  2. भौत बिगरैली रचणा किरण । आनन्द ऐ ग्ये बाँचिक !

    1. आपको भोत भोत धन्यवाद गुरजी ।। आपको आशीष यूं ही बण्यू रौ ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *