July 3, 2022

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री हरक सिंह का एलान, नहीं लड़ेंगे 2022 का चुनाव, राजनीति से नहीं लेंगे सन्यास

1 min read

उत्तराखंड में भाजपा की त्रिवेंद्र सरकार में कैबिनेट के वरिष्‍ठ सदस्‍य वन एवं पर्यावरण मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने एलान किया है कि वह वर्ष 2022 में होने वाला अगला विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। साथ ही उन्‍होंने यह भी स्पष्ट किया कि वह राजनीति से संन्‍यास नहीं ले रहे हैं। हरक सिंह रावत की इस घोषणा के राजनीतिक पंडित कई माइने निकाल रहे हैं।
कांग्रेस में बगावत कर हुए थे भाजपा में शामिल
वर्ष 2016 में कांग्रेस की तत्‍कालीन हरीश रावत सरकार के खिलाफ बगावत कर नौ अन्‍य विधायकों के साथ भाजपा में शामिल होकर हरक सिंह रावत ने सरकार पर संकट ला दिया था। इसके बाद वह वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में पौडी गढवाल जिले की कोटद्वार विधानसभा सीट से भाजपा प्रत्‍याशी के रूप में मैदान में उतरे और जीत हासिल की। हरक की छवि तेजतर्रार मंत्री की रही है।
सीएम ने नहीं हो सकी मुलाकात
हरक सिंह रावत के पास श्रम और सेवायोजन मंत्रालय भी है। भवन एवं अन्‍य सन्निर्माण कर्मकार कल्‍याण बोर्ड के अध्‍यक्ष पद पर अब तक हरक सिंह रावत ही काबिज थे। गढवाल दौरे के बाद वह गुरुवार को ही देहरादून पहुंचे। उन्‍होंने कहा था कि इस मामले में वह मुख्‍यमंत्री से बात करेंगे, लेकिन अभी उनकी मुख्‍यमंत्री से मुलाकात नहीं हो पाई है। मुख्‍यमंत्री गुरुवार शाम को दिल्‍ली से लौटे और शुक्रवार सुबह कुमाऊं मंडल के एक दिनी दौरे पर रवाना हो गए। हरक सिंह रावत के चुनाव न लडने के एलान को इस घटनाक्रम से जोड़कर भी देखा जा रहा है।
भाजपा के वरिष्ठ नेताओं को दे दी जानकारी
मीडिया से बातचीत में उन्‍होंने अचानक अगला विधानसभा चुनाव न लड़ने की बात कही। रावत ने कहा कि इसकी जानकारी उन्‍होंने भाजपा प्रदेश महामंत्री संगठन अजेय कुमार समेत वरिष्‍ठ नेताओं को दे दी है। वैसे उन्‍होंने राजनीति छोड़ने या राजनीति से संन्‍यास लेने की बात से इनकार किया है।
यह पहली बार नहीं है, जब वन और पर्यावरण मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने 2022 का चुनाव न चुनाव न लड़ने की इच्‍छा जताई हो, लेकिन मौजूदा परिस्थितियों में उनका इस बयान के कई निहितार्थ निकाले जा रहे हैं। असल में, सरकार ने हाल में उन्‍हें भवन और अन्‍य सन्निर्माण कर्मकार कल्‍याण बोर्ड के अध्‍यक्ष पद से हटाकर श्रम संविदा बोर्ड के अध्‍यक्ष शमशेर सिंह सत्‍याल को यह‍ जिम्‍मेदारी सौंप दी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page