July 2, 2022

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

पढ़िए युवा कवयित्री किरन पुरोहित की स्वतंत्र विधा की कविता-मां भवानी

1 min read

लगे भवानी लाडली ,
गिरिनंदिनी राजकिशोरी ।
मै तो तुझे मनाऊं माता ,
सुन लो विनती मोरी ।।

अहो सलोना रूप तेरा मां ,
सोने जैसा चमके ।
हे ! गिरिजा सिंगार तुम्हारा ,
सूर्य कि भांति दमके ।।

तेरे गुण मैं गाऊं देवी ,
शिव मुख चंद्र चकोरी ।
मैं तो तुझे मनाऊं माता ,
सुन लो विनती मोरी ।।1।।

तेरे ही आशीष से होती ,
जीवन पथ पर सदा विजय ।
कैलाश स्वामिनी सुर -मुनि -जन ,
नित करते हैं तेरी जय जय ।।

शंभु भामिनी शिव भोले हैं ,
तू अति मन की भोरी ।
मैं तो तुझे मनाऊं माता ,
सुन लो विनती मोरी ।।2।।

——-किरन पुरोहित हिमपुत्री

लेखिका का परिचय —
नाम – किरन पुरोहित “हिमपुत्री”
पिता – श्री दीपेंद्र पुरोहित
माता – श्रीमती दीपा पुरोहित
जन्म – 21 अप्रैल 2003
आयु – 17 वर्ष
अध्ययनरत – कक्षा 12वीं उत्तीर्ण
निवास, कर्णप्रयाग चमोली उत्तराखंड।

1 thought on “पढ़िए युवा कवयित्री किरन पुरोहित की स्वतंत्र विधा की कविता-मां भवानी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page