July 4, 2022

Lok Saakshya

Jan Jan Ki Awaj

उत्तराखंड में भाजपा प्रशिक्षण वर्ग में 500 जिला विषय प्रमुख प्रशिक्षित, मंडल प्रशिक्षण वर्ग 28 अक्टूबर से

1 min read

भारतीय जनता पार्टी के उत्तराखंड प्रदेश में चल रहे प्रशिक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत अब दूसरे चरण में जिला विषय प्रमुखों का प्रशिक्षण पूरा हो गया है। इसके बाद अब 28 अक्टूबर से मंडल प्रशिक्षण वर्ग प्रारंभ हो रहे हैं जो 12 नवम्बर तक चलेंगे।
यह जानकारी देते हुए प्रदेश प्रशिक्षण प्रमुख ज्योति गैरोला ने बताया कि उत्तराखंड में पार्टी प्रशिक्षण कार्यक्रम निर्धारित समय के अनुसार आगे बढ़ रहा है। प्रदेश विषय प्रमुखों के प्रशिक्षण के बाद जिला प्रशिक्षण प्रमुखों का तीन दिन चले 10 सत्रों में प्रशिक्षण पूरा हो गया है। इसमें प्रदेश के 10 प्रशिक्षण प्रमुखों द्वारा जिला स्तर पर 500 जिला प्रशिक्षण प्रमुखों को प्रशिक्षण प्रदान किया गया।
उन्होंने बताया कि अब प्रदेश में सभी मंडलों में प्रशिक्षण वर्ग शुरू किए जा रहे हैं। ये प्रशिक्षण वर्ग 28 अक्टूबर से 12 नवंबर के बीच दो चरणों में होंगे। इनमें पहले चरण में देहरादून जिला ,देहरादून महानगर, हरिद्वार ,उधम सिंह नगर और नैनीताल जिलों के 142 मंडलों में प्रशिक्षण दिए जाएंगे। यह चरण 28 अक्टूबर से शुरू होने के बाद 4 नवंबर तक चलेगा।
इसके बाद दूसरे चरण में 6 नवंबर से 12 नवंबर तक 110 मंडलों में प्रशिक्षण होगा। ये प्रशिक्षण वर्ग पौड़ी, टिहरी, चमोली,उत्तरकाशी ,रुद्रप्रयाग, अल्मोड़ा, पिथौरागढ़, चंपावत, व बागेश्वर में आयोजित किए जाएंगे। उन्होंने आगे बताया कि सभी मंडलों के प्रशिक्षण कार्यक्रम तय कर दिए गए हैं। मंडलों में होने वाले प्रशिक्षण वर्ग दो दिवसीय होंगे और सभी प्रशिक्षुओं को दोनों दिन उपस्थित रहना आवश्यक रहेगा। इन वर्गों में प्रदेश पदाधिकारी वह अन्य वरिष्ठ नेता मार्गदर्शन के लिए जाएंगे।
गैरोला ने कहा कि प्रशिक्षण वर्गों का आयोजन भाजपा की कार्य संस्कृति का एक अभिन्न अंग है। जिसमें कार्यकर्ताओं को वैचारिक रूप से और अधिक सशक्त बनाया जाता है और उन्हें पार्टी की विचारधारा, कार्यपद्धति, इतिहास, केन्द्र व प्रदेश भाजपा सरकारों की उपलब्धियों आदि के बारे में जानकारी व प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है। इससे जहां पुराने कार्यकर्ताओं का ज्ञान अद्यतन होता है, वहीं पार्टी में शामिल हुए नए कार्यकर्ताओं को भी पार्टी के वास्तविक स्वरूप की जानकारी मिलती है और वह मूल धारा में रच बस जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page